शिवराज जी को ना अपने कार्यकर्ताओं-नेताओं पर विश्वास और ना सिंधिया समर्थकों पर,

0
16

भोपाल।  मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने कहा है कि राजनीतिक इतिहास में पहली बार भाजपा में ऐसा अविश्वास देखने को मिल रहा है कि शिवराज जी विभिन्न उपचुनाव वाले क्षेत्रों में आयोजित बूथ सम्मेलनों में जाकर कार्यकर्ताओं व अपने नेताओं को मंत्रोचार के साथ ‘‘सुपारी संकल्प”  दिला रहे हैं कि वह पार्टी के लिए ईमानदारी, निष्ठा से काम करेंगे।
सलूजा ने बताया कि इसके पीछे वास्तविकता यह है कि कांग्रेस से गद्दारी कर सिंधिया समर्थक भाजपा में आए हैं, इसलिए उन पर शिवराज जी व भाजपा को आज भी विश्वास नहीं हो पा रहा है। शिवराज जी व भाजपा का मानना है कि जिन्होंने कांग्रेस से गद्दारी की है, वह भाजपा के साथ कैसे ईमानदारी से रहेंगे ?इसलिए इस तरह का ‘‘सुपारी संकल्प’’ दिलाया जा रहा है। साथ ही भाजपा में जिस तरह से बिकाऊ-टिकाऊ का झगड़ा सामने आ रहा है। बिकाऊओं के आने के बाद से सारे टिकाऊ नाराज हैं तो शिवराज जी को यह भी लग रहा है कि भाजपा का वह समर्पित कार्यकर्ता, जिसने अपने खून-पसीने से पार्टी को सींचा है, वह इन बिकाऊओं को उपचुनावों में घर ना भेज दे।
इसलिए अपने निष्ठावान, समर्पित कार्यकर्ताओं पर भी अविश्वास कर उन्हें भी इस तरह का ‘‘सुपारी संकल्प’’ दिलाया जा रहा है।
राजनीति के इतिहास में यह पहली घटना है, जब खुद मुख्यमंत्री को अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं व अपने नेताओं पर भी विश्वास नहीं हो पा रहा है और उनसे धार्मिक आधार पर संकल्प दिलाकर यह वादा लिया जा रहा है कि वे पार्टी के लिए निष्ठा, समर्पण और ईमानदारी से काम करेंगे।
कांग्रेस का कहना है कि यह ‘‘सुपारी संकल्प” भाजपा के उन लाखों इमानदार कार्यकर्ताओं का अपमान है, जो वर्षों से पार्टी के लिए समर्पण भावना से काम कर रहे हैं। साथ ही यह संकल्प उन सिंधिया समर्थकों की भी वास्तविकता उजागर कर रहा है कि भले उन्होंने कांग्रेस से गद्दारी कर भाजपा का दामन थाम लिया है लेकिन आज भी भाजपा का उन पर विश्वास नहीं है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें