नालंदा: जिले में सोल्लासा संपन्न हुआ छठ

0
22
  • छठ घाटों पर दिखा अलौकि छटा
  • महिलाएं शाम और सुबह गुनगुनाती रही छठ मईया के गीत

राजगीर/चिकसौरा/हिलसा/एकंगरसराय/सिलाव/इस्लामपुर/गिरियक (नालंदा)। जिले के विभिन्न प्रखंडों में लोक आस्था का चार दिवसीय महापर्व छठ व्रत शनिवार को विभिन्न घाट तालाबों में उदीयमान भगवान भास्कर को अर्घ्य के साथ ही शांतिपूर्ण संपन्न हो गया। इसके पूर्व शुक्रवार को छठव्रतियों ने अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य दिया था। इस दौरान सभी घाटों पर नियंत्रण कक्ष पंडाल के साथ हीं माइक लाउडस्पीकर लगाया गया ताकि घाटों पर आये सभी लोगों को सोशल डिस्टेंस एवं मास्क लगाने के लिए जागरूक किया जा रहा था। छठ पर्व के दौरान शांति बनाये रखने को लेकर छठ घाटों पर दंडाधिकारी के नेतृत्व में पुलिस बल भी तैनात किये गये थे। हालांकि कोरोना के प्रभाव के कारण कई छठव्रती घाट पर ना पहुंचकर अपने घरों के आसपास में हीं घाट निर्माण कर भगवान भास्कर को अर्घ्य देकर अपना छठ व्रत संपन्न किया।

राजगीर से आससे के अनुसार छठव्रती माताओं ने राजगीर के सूर्य कुंड बैतरणी घाट, हसनपुर तलाव, झुनकियां बाबा मंदिर सहित कई धार्मिक स्थलों पर लोगों ने छठ पूजा मे धार्मिक वातावरण का लाभ लिया। इस बार छठ व्रतियों के लिए राजगीर में चलने वाले टोटो रिक्शा वालों ने निःशुल्क सेवा भाव से घाटों तक पहुंचाने एवं लाने के लिए तत्पर रहे। बैतरणी घाट तलाव में इस बार काफी अच्छी संख्या में छठ व्रत महिलाओं ने आकर पूजा पाठ किया। सनातन धर्म बैतरणी घाट तलाव की काफी पौराणिक महत्व रही है। बताया जाता है कि इस बैतरणी घाट में गाय की पुंछ पकड़ कर लोग भवसागर पार होते हैं जिससे मन की सारी इच्छाएं पूरी होती है। बैतरणी घाट तलाब में छठ व्रतियों की सेवा भाव एवं देखरेख में जुटे वार्ड पार्षद सूरज यादव, पंडा कमेटी के धीरेंद्र उपाध्याय, पूर्व वार्ड पार्षद इंद्रमोहन सिंह निराला, राजकुमार यादव, पूर्व रेलवे स्टेशन प्रबंधक मंतोष  कुमार मिश्रा, कारू यादव, वार्ड पार्षद सरवन यादव सहित समाजसेवी सेवा भाव से लगे रहे।

चिकसौरा से संसू के अनुसार थाना क्षेत्र के कोरावां, दल्लु बिगहा, मिर्जापुर, चिकसौरा बाजार समेत कई गांवों में छठव्रतियों ने उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देने के साथ लोक आस्था का महापर्व चार दिवसीय छठ पूजा आज संपन्न हो गया। कोरोना के प्रभाव को देखते हुए कई छठव्रतियों ने अपने-अपने घरों के आसपास हीं जलजमाव कर भगवान भास्क को अर्घ्य दिया।

हिलसा से संसू के अनुसार रविवार की सुबह उगते हुए सूर्य को अर्घ्यदेकर छठव्रतियों ने अपने चार दिवसीय छठ पर्व के अनुष्ठान को पूरा किया। छठ पर्व को लेकर नगर परिषद् की ओर से सूर्य मंदिर तालाब की व्यापक साफ-सफाई के साथ हीं सभी मुख्य सड़कों एवं गलियों में भी साफ-सफाई के साथ-साथ पर्याप्त रोशनी की व्यवस्था की गयी थी। कई जगहों पर सीसीटीवी कैमरे भी लगाये गये थे। हिलसा के ग्रामीण क्षेत्र में भी छठ पर्व नदी एवं तालाबों में करते हुए श्रद्धालु दिखे। इसके साथ कई श्रद्धालुओं ने अपने घर पर रहकर छठ पूजा किया।

हिलसा के पूर्व विधायक शक्ति सिंह यादव अपने आवास पर खुद सूर्य भगवान के सामने अर्घ्य दिया। हिलसा के नव चयनित विधायक कृष्ण मुरारी शरण प्रेम मुखिया ने अपने परिवार के साथ अपने घर पर छठ पर्व मनाया, हिलसा सुर्यमंदिर तालाबपर बनाए गए नियंत्रण कक्ष से हिलसा विधायक कृष्ण मुरारी शरण उर्फ प्रेम मुखिया, हिलसा नगर परिषद कार्यपालक पदाधिकारी संदीप कुमार,हिलसा विकास पदाधिकारी राजदेव कुमार रजक, हिलसा डीसीएलआर, युवा वार्ड पार्षद विजय कुमार विजेता वार्ड पार्षद डॉ सुरेंद्र प्रसाद रेड क्रॉस के उपाध्यक्ष डॉक्टर पवन कुमार भरत कुमार एवं समाजसेवी आशुतोष कुमार मानव के अलावे कई बुद्धिजीवी लोग उपस्थित रहे।

एकंगरसराय से संसू के अनुसार प्रखंड क्षेत्र के ऐतिहासिक सूर्य मंदिर तालाब औंगारी धाम, केशोपुर, तेल्हाड़ा, ओप, अमनार, धुरगांव, दनियावां, पिरोजा सूर्य मंदिर तालाबों पर बड़ी संख्या में छठव्रतियों ने अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य प्रदान किया। केशोपुर में छठव्रतियों के लिए तालाब का निर्माण कराया गया, जिसमें सैकड़ों महिलाओं व पुरुष ने अर्घ्य प्रदान किया। औंगारीधाम ट्रस्ट के अध्यक्ष रामभूषण दयाल के नेतृत्व में तालाब के चारों तरफ बैरिकेटिंग, शौचालय, कपड़ा चेंजिंगरूम के साथ-साथ स्वास्थ्य एवं सुरक्षा व्यवस्था बहाल की गयी। इस कार्य में समाजसेवी राजुकांत सिपाही, काजू, अतुलदेव प्रसाद, रूबी कुमारी, व्यापार मंडल अध्यक्ष सुभाष कुमार सिन्हा, जदयू नेता ई. राजन, एस के पांडेय, नवल पांडेय, बी एन यादव सहित दर्जनों लोग छठव्रतियों की सेवा में लगे थे। कोरोना को देखते हुए बड़ी संख्या में औंगारी सूर्य धाम तालाब में जुटने वाले बाहरी छठव्रती इस वर्ष यहां नहीं पहुंचे थे।

सिलाव से संसू के अनुसार प्रखंड मुख्यालय सहित आसपास के क्षेत्रों में उगते हुये सुर्य को अर्घ्य के साथ छठ पूजा संपन्न हो गया। शनिवार को सुबह उगते हुये सुर्य को अर्घ्य देने के लिये सिलाव के रामनगर छठ घाट पर सुबह चार बजे से लोगों का आना शुरु हो गया था। इस बार साफ-सफाई एवं सुरक्षा की पूरी व्यवस्था किया गया था। रामनगर गांव के युवाओं द्वारा लाइट और बाजा व्यवस्था की गई थी। युवाओं के द्वारा छठ घाट पर आये हुये लोगों को पीने के पानी की व्यवस्था की गयी थी। वहीं नगर पंचायत अध्यक्ष के परिजन विजय सिंह और अजय सिंह के द्वारा सभी को फ्री में चाय की व्यवस्था किये थे। सिलाव के कड़ाह डीह के घाट पर भाजपा प्रखंड अध्यक्ष सुधीर सिंह के द्वारा अच्छी व्यवस्था की थी।

इस्लामपुर से संसू के अनुसार प्रखंड क्षेत्र में चार दिनों तक चलने वाला लोक आस्था का महापर्व छठ उदयीमान सूर्य को अर्घ्य देने के साथ संपन्न हुआ। हजारों की संख्या में लोग इस्लामपुर के बूढ़ानगर सूर्य तालाब घाट सहित प्रखंड के विभिन्न घाटों पर उगते सूर्य को अर्घ्य देने के लिए पहुंचे। इस दौरान घाटों की साफ-सफाई करने के साथ-साथ जलाशयों में बैरिकेटिंग कर रोशनी का व्यापक प्रबंध किया गया था। नगर पंचायत की ओर से घाटों पर पेयजल के साथ-साथ कपड़ा बदलने के लिए चेंजिंग रुम का भी व्यवस्था किया गया है। व

ही इसलामपुर व खुदागंज प्रशासन की ओर से कड़ी कदम उठाया गया है। ताकि यह पर्व शांतीपुर्ण वातावरण में सम्पन्न हो सके। पुलिस इंस्पेक्टर अरुण कुमार ने बताया कि पर्व को लेकर जगह जगह पर पुलिस बल को तैनात किया गया है ताकि लोगों को आने जाने मे परेशानी का सामना नहीं करना पड़े। इस मौके पर सीओ नलीन विनोद पुष्पराज,थानाध्यक्ष शरद कुमार रंजन,पुर्व मुखिया पप्पु कुमार,आदि मौजुद थे। इधर कोरोना को लेकर सरकारी स्तर से चिकित्सा शिविर का भी आयोजन किया गया।

गिरियक से संसू के अनुसार चार दिनों तक चलने वाला लोक आस्था और विश्वास का महापर्व छठ व्रत पूरे प्रखंड क्षेत्र के विभिन्न छठ घाटों पर व्रतियों द्वारा उदयमान भगवान भाष्कर को अर्ध्य प्रदान करने के बाद सम्पन्न हो गया। प्रखंड क्षेत्र के पंचाने नदी में पहाड़ी के तलहटी, रैतर पंचयात का छठ घाट बजरंबली मंदिर के पास जिसका व्यवस्थापक रामानंद सागर और राजेश कुशवाहा ने किया, पुरैनी, जलमंदिर के जलसरोवर, पावापुरी नानन्द घाट, बेल्दरिया, इशुआ में समाज सेवी रविरंजन एवं ग्रामीणों द्वारा घाट की सारी व्यवस्था की गई और तरोखर, तख्तरोजा, दुर्गापुर, प्यारेपुर, घोसरावां, काली बिगहा, दौलचक, शोभनगर, पोखरपुर घाट पर अर्ध्य दिया गया।

वहीं चोरसुआ के त्रिवेणी घाट में चोरसुआ, बकरा, बथानपर सहित बिहारशरीफ, महानन्द पुर, सकरौल, काशिमचक आदि गांवों से छठ व्रती आकर अर्घ्य प्रदान किए। इस दौरान सभी घाटों पर ग्रामीणों के सहयोग से साफ सफाई कराया गया। वहीं रैतर, दुर्गापुर, चोरसुआ सहित कई छठ घाटों पर छठ व्रतियों के लिए हर सहूलत पहुंचाने के लिए बैरिकेटिंग नहाने के बाद कपड़े बदलने और लाइट बत्ती की पूरी व्यवस्था की गई थी। बता दें कि कोरोना संक्रमण खतरे को रोकने के लिए सरकार द्वारा सभी को अपने अपने घरों में हीं छठ पूजा करने का निर्देश दिया गया था लेकिन आस्था के आगे किसी की एक न चली और लोगों ने पूर्व की तरह ही छठ पूजा घाटों पर जाकर पूरा किया गया।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें