कोविड अस्पतालों की अव्यवस्था पर नाराज हुए सीएम योगी, कहा- मरीज वीडियो वायरल कर रहे

0
18

कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा बढ़ा तो सीएम योगी इलाज के इंतजामों को परखने शुक्रवार को बरेली आए। कमिश्नरी सभागार में जनप्रतिनिधियों की मौजूदगी में सीएम ने प्रशासन और हेल्थ अफसरों के साथ मंडलीय समीक्षा मीटिंग की। कोविड का इलाज करने वाले अस्पतालों की व्यवस्था को लेकर सीएम ने नाराजगी जाहिर की। सीएम ने कहा कि मरीज कोविड वार्ड की नेगेटिव वीडियो वायरल कर रहे हैं। ये वीडियो मुझ तक पहुंचती हैं। कोई इलाज में लापरवाही का वीडियो भेजता है। कोई खाने और कोविड वार्ड की सफाई पर सवाल उठाता है। इसको बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। 

शुक्रवार दोपहर करीब 2.45 बजे कमिश्नरी सभागार में सीएम ने मैराथन समीक्षा मीटिंग शुरू की। चारों जिलों के डीएम ने कोविड कंट्रोल करने के लिए उठाए गए कदम के बारे में जानकारी दी। 10-10 मिनट का पावर प्वाइंट प्रजेंटेशन दिया। सैंपलिंग और पॉजिटिव मरीजों की जानकारी दी। मौत का आंकड़ा भी सीएम के सामने पेश किए। मरीजों की मौत के कारण भी मुख्यमंत्री को बताए गए। सीएम योगी का फोकस व्यवस्था को और दुरुस्त करने पर रहा।

मरीज व्यवस्था पर उठा रहे सवाल’

सीएम ने कहा कि मुझे सबसे अधिक दुखी इन दिनों कोविड वार्ड से वायरल होने वाली नेगेटिव वीडियो कर रहीं हैं। मरीज व्यवस्था पर सवाल उठा रहे हैं। कहीं से गंदगी का वीडियो आ रहा है। कोई एंबुलेंस और दवा न मिलने का वीडियो वायरल कर रहा है। इससे गलत संदेश जाता है। इस सिस्टम को सुधारना होगा। मरीज का रेस्पांस पीरियड कम करना होगा। सूचना आने के तुरंत बाद एंबुलेंस से मरीज को लाकर भर्ती करा दो। मरीज के हालत के मुताबिक उसको संबंधित अस्पताल में भेजना होगा। मरीजों को खाना मैन्यू के मुताबिक मिलना चाहिए। ऐसे इंतजाम होने चाहिए कि मरीज को निगेटिव वीडियो बनाने के बारे में सोचने की जरूरत ही महसूस न हो। मीटिंग में एडीजी, कमिश्नर, चारों जिलों के डीएम और सीएमओ के साथ जनप्रतिनिधि भी मौजूद रहे। 

विधायक की सिफारिश पर तुरंत हो एक्शन

सीएम योगी ने अधिकारियों से कहा कि विधायक की सिफारिश पर तुरंत एक्शन होना चाहिए। विधायकों को मरीज को भर्ती कराने और इलाज के बारे में जानकारी भी दी जाए। 

टेस्टिंग और बढ़ाओ 

मुख्यमंत्री ने डोर-टू-डोर सर्वे पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि मरीज के कांटेक्ट ट्रेसिंग बेहतर ढंग से होनी चाहिए। सैंपलिंग और बढ़ानी होंगी ताकि कोरोना संक्रमित मरीज सामने आ सकें। उनको इलाज मिल सके।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें