बरेका निर्मित विद्युत रेल इंजन राष्ट को समर्पित

0
9

-आज समाचार सेवा-

बनारस रेल इंजन कारखाना की महाप्रबन्धक अंजली गोयल ने शुक्रवार को बनारस रेल इंजन कारखाना निर्मित १५० वें विद्युत रेल इंजन डब्लू एपी-७ को राष्टï्र की सेवा में समर्पित किया। इस मौके पर महाप्रबन्धक ने सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों के योगदान की सराहना की तथा सभी को बधाई दी। बरेका के अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने कड़ी मेहनत एवं लगन से मात्र १५९ कार्यदिवसों में १५० विद्युत रेल इंजनों का निर्माण किया। निर्माण के दौरान कोविड-१९ से संबन्धित सभी नियमों का पालन भी सुनिश्चित किया गया। माननीय प्रधानमंत्री के आत्म-निर्भर भारत मिशन के तहत इन इंजनों के निर्माण में लगभग १३०० करोड़ रुपये मूल्य के स्वदेशी उपकरणों का प्रयोग हुआ है। विदित हो कि वैश्विक महामारी कोविड-१९ के कारण घोषित लॉकडाउन के चलते बनारस रेल इंजन कारखाना में उत्पादन गतिविधियां ४८ दिनों तक बंद थी । दिनांक नौ मई २०२० को आवश्यक दिशा-निर्देशों के अनुरूप बनारस रेल इंजन कारखाना में केवल परिसर स्थित आवासों में रहने वाले कर्मचारियों के द्वारा अधिकतम 33 प्रतिशत फार्मूला के आधार पर सेवा लेकर कार्य आरंभ हुआ था । इसी क्रम में १६ मई २०२० को बनारस रेल इंजन कारखाना लोको टेस्ट शॉप में लॉकडाउन के दौरान बनारस रेल इंजन कारखाना द्वारा निर्मित वित्तीय वर्ष २०२०-२१ का प्रथम विद्युत रेल इंजन रवाना किया गया था। मात्र एक सप्ताह में बनारस रेल इंजन कारखाना कर्मचारियों के अथक प्रयास से इस विद्युत रेल इंजन का निर्माण वास्तव में बनारस रेल इंजन कारखाना के लिए ऐतिहासिक क्षण था। उपरोक्त १५०वें यात्री सेवा वाले ६०००अश्व शक्ति विद्युत लोको संख्या ३७४७१ को पश्चिम रेलवे के बड़ोदरा विद्युत लोको शेड को भेजा जा रहा है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें