आगरा: एक दिन की थानेदार बनीं 10 वीं की छात्रा इशिका बंसल,

0
12

आगरा: आगरा में हरीपर्वत थाने का नज़ारा बदला हुआ था. विश्व बाल दिवस पर शुक्रवार को आगरा में इशिका बंसल को एक दिन का थाना प्रभारी बनाया गया. इशिका को थानाध्यक्ष बनाया गया है. दिनभर वे पुलिस के साथ रहेंगी. मिशन शक्ति अभियान के तहत हर जिले में एक थाने में छात्रा को एक दिन का थानेदार बनाया जा रहा है.

मां-पिता के साथ आई इशिका

डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने हर जिले के एक-एक थाने में एक दिन के लिए छात्राओं को थानेदार बनाए जाने के निर्देश दिए थे. एसपी सिटी बोत्रे रोहन प्रमोद ने बताया कि हरीपर्वत थाने का एक दिन का चार्ज इशिका बंसल को इसके लिए फाइनल किया गया है. इशिका जीडी गोयनका स्कूल की दसवीं की छात्रा हैं. इशिका ने अपने मां- पिता के साथ थाना हरीपर्वत पहुंचकर चार्ज लिया. इस मौके पर उनका आत्मविश्वास देखने लायक था. इशिका ने सुबह 10 बजे हरीपर्वत थाने आकर थाने का कार्यभार संभाल लिया. उनको थानाध्यक्ष अजय कौशल ने बाकायदा बुके देकर चार्ज ग्रहण कराया. इसके बाद उन्होंने पूरे थाने का निरीक्षण किया. इस मौके पर SP City रोहन बोत्रे और ASP सौरभ दीक्षित ने थाना परिसर में विभिन्न कार्यस्थलों पर होने वाली पुलिसिंग की बारीकियों से अवगत कराया.

तीन पुस्तकें लिख चुकी हैं

इशिका बंसल की कई पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं. उन्होंने अपनी पहली किताब सातवीं क्लास में पढ़ाई के दौरान लिखी थी. इशिका ने तीन किताबें लिखीं हैं. उसमें threads of life, my diary and other poems और poetic thoughts of Eshika Bansal है. उन्होंने पुलिस को बताया कि वे पीड़ितों की थाने में समस्याओं का निदान करने का प्रयास करेंगी. एक दिन की पुलिसिंग में वह यही करके दिखाएंगी. एसपी सिटी बोत्रे रोहन प्रमोद ने बताया कि कार्यक्रम का उद्देश्य छात्राओं को यह संदेश देना है कि पुलिस उनकी मदद के लिए है. वह पुलिस से घबराएं नहीं. पुलिस कैसे काम करती है? यह अनुभव करके इशिका अपने साथ की छात्राओं को बताएं. जहां भी जाएं उनका मनोबल बढ़ाए. एक दिन की पुलिसिंग के बाद पुलिस भी इशिका से पुलिसिंग में और सुधार को सुझाव मांगेगी.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें