हिस्ट्रीशीटर का ‘कम्प्यूटर’ कनेक्शन:

0
12

हिस्ट्रीशीटर का ‘कम्प्यूटर’ कनेक्शन:कम्प्यूटर बाबा के करीबी गुंडे तोमर की अवैध संपत्ति पर चला बुलडोजर, पार्क की जमीन पर खड़े किए टाॅवर
 

बाबा से कनेक्शन निकलने के बाद रमेश की पड़ताल की तो वह भी अवैध कब्जे वाला निकला।

मंगलवार को पुलिस-प्रशासन ने नगर निगम के साथ मिलकर चाकूबाजी, लूटपाट सहित अन्य अपराध करने वाले गुंडे-बदमाशों के मकानों को ध्वस्त करने की कार्रवाई शुरू की। डीआईजी हरिनारायणाचारी मिश्र के अनुसार सबसे पहली कार्रवाई आजाद नगर में गुंडे रमेश तोमर के घर से शुरू हुई। इस पूरी कार्रवाई में खास बात यह है कि रमेश का कम्प्यूटर बाबा कनेक्शन भी सामने आया है। सुबह बड़ी संख्या में निगम की टीम पुलिस के साथ 4 जेसीबी और 4 पोकलेन मशीन लेकर रमेश के आजाद नगर थाना क्षेत्र के इदरीश नगर में पहुंची और 2 घंटे की कार्रवाई में निर्माण को जमींदोज कर दिया।

बड़ी संख्या में निगम की टीम कार्रवाई के लिए पहुंची।

निगम ने 6 मकान किए ध्वस्त, 3 मोबाइल टावर भी हटाए

नगर निगम की उपायुक्त और रिमूवल विभाग की प्रभारी लता अग्रवाल के अनुसार निगम ने पुलिस प्रशासन के साथ मिलकर मूसाखेड़ी के पास इदरीश नगर में बड़ी कार्यवाई का अंजाम दिया है। कम्प्यूटर बाबा के सहयोगी रमेश तोमर के 6 मकान अाैर एक गार्डन को 2 घंटे की कार्यवाई के बाद जमींदोज कर दिया गया। अग्रवाल के अनुसार यहां पर पांच मकान अवैध रूप से बनाए गए थे, जबकि एक मकान निर्माणाधीन था। वहींख एक गार्डन पर बने हुए शेड आदि को भी तोड़ा गया है। तोमर को नगर निगम ने पहले ही अवैध निर्माण हटाने का नोटिस जारी किया था। रमेश तोमर के यहां लगे हुए तीन मोबाइल टावरों को भी हटाने की कार्यवाई की गई है। उन्होंने बताया कि इस पूरी कार्रवाई में चार पोकलेन और चार जेसीबी को लगाया गया था। कार्रवाई के दौरान किसी प्रकार का विरोध नहीं हुआ।

पार्क की जमीन पर कब्जा, खड़ा करवा दिया अवैध मोबाइल टाॅवर

कम्प्यूटर बाबा का करीबी रमेश तोमर भी जमीन के खेल में जादूगर निकला। शर्मा के अनुसार रमेश ने पार्क की जमीन पर कब्जा कर तीन अवैध मोबाइल टाॅवर खड़े करवा लिए थे। ऊंचाई ज्यादा होने से इन्हें काटकर हटाया जा रहा है। कार्रवाई के दौरान डीजी सेट आदि को हटा दिया गया। इसके अलावा उसने अलग-अलग जगहों पर छोटे-बड़े पांच मकान और निर्माणाधीन मकान को भी तोड़ा गया। पुलिस द्वारा जो बदमाश-गुंडे लगातार अपराध कर रहे हैं, उन्हें सूचीबद्ध कर नगर निगम से इनकी वैध-अवैध संपत्तियों की जानकारी जुटाकर कार्रवाई की जा रही है। गौरतलब है कि पहली बार जब यह कार्रवाई शुरू हुई थी तो कुल 120 गुंडों के मकान तोड़े गए थे।

पांच जेसीबी की मदद से ढहाया गया निर्माण।

बाबा की जमानत का ग्यारंटर भी रमेश

सूत्रों से मिली जानकारी के बाबा के मामले में मूसाखेड़ी के रमेश तोमर द्वारा जमानत दिए जाने के लिए पांच लाख की बैंक गारंटी दी जा रही थी, लेकिन बाद में वह एसडीएम कोर्ट ही नहीं पहुंचा और इसकी सूचना वकील ने एसडीएम कोर्ट को दी। बाबा की गारंटी देने वाला कोई जमानतदार सामने नहीं आने के चलते एसडीएम कोर्ट ने आवेदन खारिज कर दिया। सोमवार को भी कोई जमानतदार नहीं मिला, इसके चलते एसडीएम कोर्ट से जमानत नहीं हुई।

रमेश ने क्षेत्र में अलग-अलग पांच मकान तान लिए थे।

रमेश पर दर्ज प्रकरण

जानकारी के अनुसार तोमर के विरुद्ध संयोगितागंज थाने पर मारपीट, गाली गलौज, बलवा करना, जान से मारने की धमकी देना, तोड़-फोड़ करना, बिजली चोरी, शासकीय कर्मचारी पर हमला, धोखाधड़ी, फर्जी दस्तावेज तैयार करना, अवैध कब्जा करना, अवैध शराब रखने के मामले दर्ज हैं।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें