जहानाबाद: सेंट्रल ट्रेड यूनियनों के आह्वान पर बैंककर्मी रहे हड़ताल पर

बैंकों में ताले लटकने से 75 करोड़ का लेनदेन हुआ बाधित

0
19

जहानाबाद। सेंट्रल ट्रेड यूनियन के आह्वान पर जिले के अधिकतर बैंकों में हड़ताल के कारण ताले लटके रहे। हालांकि इस हड़ताल में भारतीय स्टेट बैंक व निजी बैंक शामिल नही थे। बैंको के निजिकरण, कॉरपोरेट लोन में नॉन परफ़ार्मिंग एसेट की वसूली, बैंको में आउटसोर्सिंग, पुरानी पेंशन स्कीम लागू करने आदि की मांग को लेकर हड़ताल किया गया। हड़ताल में ऑल इंडिया बैंक एम्प्लाइज यूनियन, ऑल इंडिया बैंक ऑफि़सर एसोसिएशन, बीइफ़र् एवं वामदल समर्थित सभी ट्रेड यूनियन इस हड़ताल में शामिल हुई।

बता दें कि हड़ताल को राजद एवं वामदल का समर्थन भी प्राप्त हुआ। मौके पर पंजाब नेशनल बैंक एम्प्लाइज यूनियन बिहार के उपाध्यक्ष कुमार राजीव रंजन पूरे जिले के हड़ताल का नेतृत्व किया। राजीव रंजन ने बताया कि ये हड़ताल 13 सूत्री माँग को लेकर किया गया है। उन्होंने कहा कि बैंको का निजिकरण करना, हड़ताल का मुख्य कारण है। हम सरकार को बता देना चाहता हैं कि ये हड़ताल सिर्फ सांकेतिक है। अगर इससे सरकार अपने बैंक विरोधी नीति में सुधार नही लाती है, तो हमलोग अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाएंगे।

उन्होंने बताया कि इस हड़ताल से पूरे जिले में करीब 75 करोड़ का लेन देन बाधित हुआ है। मौके पर एसोसिएशन के सदस्यों ने पंजाब नेशनल बैंक के मुख्य शाखा के समीप प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन में ऑफि़सर एसोसिएशन के नरेंद्र कुमार, बाबू आनंद, वर्कमैन एसोसिएशन के सुनील कुमार, खुशीलाल, राम कुमार, मनीष कुमार, बैंक ऑफ़ इंडिया के अनिल कुमार, बैंक ऑफ़ बड़ोदा से शांतनु कुमार सहित दर्जनों लोग शामिल थे।

कृषि कानून के विरोध में किसान संघर्ष समिति ने किया प्रदर्शन

अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के आह्वान पर राष्ट्रव्यापी कार्यक्रम के तहत जिला मुख्यालय सहित सभी प्रखण्डों पर धरना-प्रदर्शन किया गया। इस दौरान केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानून के विरोध में सरकार के खिलाफ़ जमकर नारेबाजी हुई। मौके पर नेताओं ने कहा कि कहा कि केंद्र सरकार ने राज्यों के अधिकारों का अतिक्रमण कर कृषि संबंधी तीनों अध्यादेश लाकर किसानों के साथ अन्याय किया है। किसानों को अपनी फ़सल कहीं भी बेचने की छूट देने का सपना दिखाकर मंडी व्यवस्था को खत्म करने का षड्यंत्र किया है।

इधर जिले के सभी प्रखण्ड मुख्यालयों पर धरना दिया गया, जिसका नेतृत्व जगदीश पासवान, राजनंदन यादव, तथा शौकीन यादव ने किया। वहीं अखिल भारतीय किसान महासभा के राज्य सचिव रामाधार सिंह ने सभा को संबोधित किया। कार्यक्रम के माधयम से 9 सूत्री मांगों को प्रखंड विकास पदाधिकारी के माध्यम से प्रधानमंत्री को प्रेषित मांग पत्र भेजा गया। वहीं केन्द्रीय ट्रेड यूनियन के आह्वान पर जिले के सभी कर्मचारी एवं शिक्षक तथा महासंघ के संबंद्ध इकाई संगठन यथा रसोइया संघ आशा संघ, आगनवाडी कर्मी डाटाइट्री ऑपरेटर एवं सभी अनुबंध मानदेय संविदा कर्मी एक दिवसीय हडताल पर रहे।

शिक्षकों एवं कर्मचारियों तथा ट्रेड यूनियनों का सम्मिलित जत्था 12 बजे से रेलवे स्टेशन जहानाबाद से झंडा बैनर के साथ प्रदशर्न करते हुए शहर के मुख्य मार्ग से होकर कारगिल चौक पहूचा जहॉ सभा में तब्दील हो गया।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें