सैमसी झील का होगा कायाकल्प बनेगा पिकनिक स्पॉट ।

0
124

कैबिनेट मंत्री सतीश महाना के ड्रीम प्रोजेक्ट को सी डी ओ ने किया निरीक्षण 

सरसौल (कानपुर) कैबिनेट मंत्री सतीश महाना के प्रयासों से सैमसी झील का पुनरोद्धार सौंदर्यीकरण  के लिए सी डी ओ ने  झील का निरीक्षण कर अधिकारियों को निर्देश दिया जिसमें एस डी एम नर्वल को दो दिनो के अंदर झील का सीमांकन कराने का निर्देश दिया । वही झील के पुनरोद्धार व सौंदर्यीकरण का प्रोजेक्ट बनाने के लिए निचली गंग नहर व लघु सिंचाई विभाग को संयुक्त रूप से एक सप्ताह में देने का निर्देश दिया । झील के पुनरोद्धार होने के बाद जहां जल संरक्षण तो होगा ही साथ ही ग्रामीणों के लिए पिकनिक स्पॉट भी मिलेगा । सरसौल ब्लॉक के लिए कैबिनेट मंत्री सतीश महाना का ड्रीम प्रोजेक्ट भदासा ग्राम के मजरा सैमसी गांव की प्राचीन झील जो एक समय आधा दर्जन गांवो के लिए लाइफलाइन रही आज झील  अवैध कब्जा व बदहाल हालत में है इस बदहाल झील की जानकारी कैबिनेट मंत्री सतीश महाना को हुई तो जून माह में तत्कालीन सी डी ओ के साथ झील का निरीक्षण कर कायाकल्प करने का बीड़ा उठाया लेकिन अधिकारियों ने इस पर ध्यान नही दिया जिसके बाद जिले की समीक्षा बैठक में कैबिनेट मंत्री सतीश महाना ने नाराजगी दिखाई । मंत्री के तेवर के बाद बुधवार को सी डी ओ डा॰ महेन्द्र कुमार ने सिंचाई विभाग के अधिकारियों के साथ निरीक्षण किया निरीक्षण के दौरान एस डी एम नर्वल रिजवाना शाहिद को निर्देश दिया किया दो दिनो में झील का सीमांकन किया जाय झील वर्तमान में करीब 55 बीघा के क्षेत्रफल में फैली है राजस्व विभाग के सीमांकन के बाद निचली गंग नहर व लघु सिंचाई विभाग के अधिशाषी अभियन्ता को पुनरोद्धार तथा सौंदर्यीकरण का प्रोजेक्ट बनाने के लिए निर्देश दिया । झील के पुनरोद्धार व सौंदर्यीकरण होने के बाद जल संचयन व संरक्षण होगा तथा गिरते जलस्तर को रोकने में मदद मिलेगी वही ग्रामीणों को पिकनिक स्पॉट भी मिलेगा । झील 900 मीटर लंबी व 155 मीटर चौड़ी है झील । निरीक्षण के दौरान बी डी ओ सौरभ बर्नवाल डी सी मनरेगा सिंचाई विभाग व राजस्व विभाग के अधिकारी मौजूद रहे । 

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें