गिरियक: महिला सफाई कर्मी के साथ मारपीट मामले में मेडिकल कॉलेज का ओपीडी रहा ठप

प्राचार्य एवं डीएस ने कर्मियों के साथ की बैठक जिसमें संघ ने रखी मांग

0
49

गिरियक (नालंदा) (संसू)। पावापुरी विम्स अस्पताल में इन दिनों इलाज होने के बजाय चिकित्सकों की दबंगई प्रतिदिन सामने आ रहा है। बता दें कि रविवार को पावापुरी मेडिकल कॉलेज के जे.आर. हॉस्टल में महिला सफाई कर्मी पर 7 लाख के चोरी का आरोप लगाकर चिकित्सक ने अपने गुर्गों के साथ न केवल बेरहमी से पिटाई किया बल्कि महिला सफाई कर्मी को नग्न कर पीटा। इसके बाद सफाई कर्मी रविवार को डड्ढूटी से जब घर नहीं लौटी तो परिजन द्वारा खोजबीन किया गया ओर महिला नहीं मिली तो इसकी सूचना स्थानीय ओपी पावापुरी को दिया जिसके बाद महिला नवादा जिला के मुफस्सिल थाना से बरामद किया गया। इसके बाद महिला कर्मी सर्विला देवी ने अपने पर हुए जुल्म ब्यान किया।

इस अत्यचार के बाद सभी सफाई कर्मी का गुस्सा फूटा और  हुए जुल्म के इंसाफ की मांग को लेकर धरना पर बैठ गयी साथ ही दूसरे दिन भी विंस के मुख्य द्वार पर धरना प्रदर्शन पर बैठ गए जिससे ओपीडी सेवा पूर्णतः बाधित रहा। मुख्य द्वार पर बैठे कर्मियों ने किसी भी चिकित्सक को अंदर प्रवेश करने नहीं दिया। मंगलवार को विम्स कॉलेज और अस्पताल के प्रशासकों को नतमस्तक होना पड़ा और अस्पताल अधीक्षक डॉ. ज्ञान भूषण एवं प्राचार्य डॉ पी.के. चौधरी ने संघ के अध्यक्ष एवं कर्मियों के साथ समझौते को लेकर बैठक किया।

बैठक में संघ के लोगों ने 24 घंटे के अंदर आरोपी चिकित्सक डॉ. ध्रुव कुमार एवं उनके सहयोगियों को गिरफ्तार करने, पीड़िता के इलाज का सारा खर्च कॉलेज प्रशासन द्वारा करने और पीड़ित की कार्य सेवा चालू रखने, इस अवधि में उसका दैनिक भुगतान करने तथा भविष्य में इस तरह की घटना की पुनरावृत्ति हो आदि मांगों को लेकर अड़े रहे। बैठक में लिखित आश्वासन मिलने के बाद संघ के लोगों द्वारा मामला शांत किया गया। साथ ही संघ के द्वारा चेतावनी दी गयी यदि कार्रवाई नहीं हुई तो आंदोलन और तेज होगा। इस मौके पर कर्मचारी संघ के महामंत्री सुधीर पटेल, थाना अध्यक्ष चंचल कुमार सिंह, विम्स पावापुरी के सफाई कर्मी प्रतिमा देवी सहित सफाई मौजूद थे।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें