बिहारशरीफ: कोविड और चुनाव को लेकर मंद पड़ी-विकास और जनकल्याणकारी योजनाओं को रफ्तार देने की तैयारी

डीएम ने सभी प्रखंडों के प्रभारी पदाधिकारी को दिया योजनाओं की समीक्षा और स्थलीय जांच का निर्देश

0
31

बिहारशरीफ (आससे)। कोविड और चुनाव को लेकर जिले के विकास योजनाओं तथा सरकारी कार्यक्रमों की मॉनिटरिंग लगभग ठप पड़ी थी। लेकिन अब इसे रफ्तार देने की पहल शुरू कर दी गयी है। जिला पदाधिकारी योगेंद्र सिंह ने सभी प्रखंडों के वरीय पदाधिकारी को निर्देश दिया है कि बुधवार से अपने आवंटित प्रखंडों में योजनाओं का निरीक्षण, विकास कार्यों की समीक्षा, योजनाओं के कार्यान्वयन की स्थिति का निरीक्षण करें, स्थल जांच करें और की गयी कार्रवाई से अवगत कराये।

जिला पदाधिकारी ने आज सभी प्रखंडों के वरीय पदाधिकारियों के साथ बैठक कर समीक्षा, जांच एवं निरीक्षण के एक-एक बिंदु के बारे में विस्तृत दिशा निर्देश दिया।

निरीक्षण/जांच के लिए सामान्य दिशा निदेशः

डीएम द्वारा दिये गये निर्देशों में सभी प्रखंड स्तरीय कार्यालयों में पदाधिकारियों एवं कर्मियों की उपस्थिति, आरटीपीएस काउंटर का निरीक्षण, विभिन्न सेवाओं से संबंधित अवितरित प्रमाण पत्र की जांच कारण सहित करने का निर्देश दिया गया है। मास्क चेकिंग अभियान लगातार चलाया जाना सुनिश्चित करने, कोविड-19 की टेस्टिंग हेतु निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप प्रखंड स्तर पर किए जा रहे टेस्टिंग की समीक्षा करने, भूमि विवाद निराकरण के लिए प्रत्येक शनिवार को थाना स्तर पर अंचलाधिकारी के साथ होने वाली बैठक के नियमित आयोजन एवं निष्पादित मामलों की समीक्षा करने, विभिन्न प्रकार की ऑनलाइन सेवाओं की समीक्षा, लैंड सर्वे से संबंधित शिविर के आयोजन की समीक्षा, प्रखंड अंचल में संधारित कैश बुक की जांच करने का निर्देश दिया।

हर घर नल का जल के तहत क्रियान्वित योजनाओं की समीक्षा एवं स्थल निरीक्षण कर योजना पूर्ण हुई है या नहीं, चालू स्थिति में है या नहीं, विद्युत संबंधी समस्या, शत प्रतिशत लोगों को हाउस कनेक्शन दिया गया है या नहीं आदि बिंदुओं पर निरीक्षण एवं जांच करेंगे। साथ हीं पक्की गली नाली से संबंधित योजना के क्रियान्वयन की जांच एवं स्थल निरीक्षण, राशन कार्ड के लंबित आवेदनों की समीक्षा कारण सहित करने, पंचायत सरकार भवन के निर्माण की स्थिति की समीक्षा एवं स्थल निरीक्षण करने, क्रियाशील पंचायत सरकार भवन में सुचारू रूप से कार्य हो रहा है या नहीं। पंचायत सरकार भवन में विभिन्न कार्यों के निष्पादन हेतु प्रतिनियुक्त कर्मी की उपस्थिति की समीक्षा एवं स्थल निरीक्षण करने को कहा गया है।

मुख्यमंत्री ग्राम परिवहन योजना के तहत बढ़ाए गए लक्ष्य (प्रति पंचायत 7) के अनुरूप प्राप्त आवेदन एवं नियमानुसार लाभुकों के चयन की समीक्षा, पराली जलाने के मामले की समीक्षा एवं स्थल निरीक्षण, प्रखंड में उर्वरक एवं बीज के उपलब्धता की स्थिति की समीक्षा के साथ-साथ प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत स्वीकृत आवेदन तथा स्वीकृति प्राप्त आवेदकों को प्रथम द्वितीय एवं तृतीय किस्त के भुगतान की समीक्षा, लोहिया स्वच्छ बिहार अभियान के तहत निर्मित शौचालय के लिए लाभुकों को भुगतान की समीक्षा, विभिन्न न्यायालय से संबंधित मामलों में अपेक्षित कार्रवाई के अनुपालन की समीक्षा के अतिरिक्त अन्य स्थानीय महत्वपूर्ण मामले की समीक्षा करने का भी निर्देश मिला है।

जिला पदाधिकारी ने सभी प्रखंडों के वरीय पदाधिकारियों को स्पष्ट रूप से कहा कि इस प्रकार की समीक्षा, निरीक्षण एवं जांच का मुख्य उद्देश्य कार्य संस्कृति में अपेक्षित सुधार लाना है। सभी पदाधिकारी एवं कर्मी निर्धारित समय पर कार्यालय में आएं तथा अपने दायित्व का निर्वहन करें। इसमें किसी प्रकार की कोताही बरतने वाले पदाधिकारियों एवं कर्मियों के विरुद्ध जांच रिपोर्ट के आधार पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। सभी प्रखंडों के वरीय पदाधिकारियों को निरीक्षण एवं जांच के उपरांत स्पष्ट निरीक्षण एवं जांच प्रितवेदन सौंपने को कहा गया।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें