गिलियड ने कोरोनो वायरस दवा की कीमत रखी 1 लाख 77 हजार

0
13
721859159f6885ba7cd821a02c785d1167a9d554fbed865c40ab7237aa35c987

नई दिल्‍ली: लगता है दुनिया को कोरोना के साथ ही जीना सीखना होगा, क्‍योंकि इस महामारी के लिए जिस कंपनी ने दवा बनाई है, उसने इसकी इतनी कीमत रखी है कि गरीब छोडि़ए आम आदमी इसे खरीद भी नहीं सकता। मिली जानकारी के अनुसार, गिलियड नाम की कंपनी ने जो दवा बनाई है, उसने उसकी कीमत करीब 1 लाख 77 हजार रुपये रखी है।

मिली जानकारी के अनुसार, गिलियड कंपनी ने कोरोना के इलाज के लिए 5 दिन का कोर्स करने की बात कही है। कंपनी ने रेमडेसिवीर नाम की जो दवा बनाई है उसकी एक शीशी की कीमत करीब 390 डॉलर रखी है, ऐसे में कोरोना मरीज को 5 दिन में पांच खुराक की आवश्‍कता होती, जिसकी कुल कीमत 2,340 डॉलर (करीब 1,770,000 रुपये) होगी

कंपनी ने कहा है कि गंभीर रूप से बीमार COVID-19 रोगियों के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका और अन्य विकसित देशों में सरकारी स्वास्थ्य कार्यक्रमों द्वारा कवर किए गए लोगों के लिए विशिष्ट उपचार के लिए वह 2,340 डॉलर का शुल्क लेगी। गिलियड साइंसेज ने सोमवार को रेमेडिसविर के लिए कीमत की घोषणा की और कहा कि प्राइवेट इंश्योरेंस कंपनियों व कॉमर्शियल प्लेयर्स के लिए इसकी एक शीशी की कीमत 520 डॉलर होगी, जिसके लिए उन्‍हें 5 दिन के कोर्स की 3,120 डॉलर चुकाने होंगे।

ओडे ने कहा कि 127 गरीब या मध्यम आय वाले देशों में गिलियड जेनेरिक निर्माताओं को दवा की आपूर्ति करने की अनुमति दे रहा। यहां पर बीमारी के उपचार कोर्स की कीमत लगभग 600 डॉलर रखी गई है। महामारी में लाभ दिखाने वाली पहली दवा रेमेडिसवीर की कीमत बहुत अधिक रखी गई है, जब छह महीने में इस बीमारी ने वैश्विक स्तर पर आधे मिलियन से अधिक लोगों को मार दिया है।

कंपनी ने कहा है कि वह अमेरिका और दूसरे देशों को करीब 2.5 लाख रेमडेसिवीर दवा दान करेगी। कंपनी अपनी सप्लाई बढ़ाने पर लगातार काम कर रही है। इस साल के अंत तक कंपनी करीब 20 लाख ट्रीटमेंट कोर्स तैयारी कर लेगी।

ओडे ने कहा कि इस दवा की कीमत तय करना एक संतुलन का काम था। एक तरफ मौजूदा महामारी लगातार तेजी से बढ़ रही है और इसका कोई इलाज नहीं है। वहीं दूसरी तरफ हमारी कंपनी प्रॉफिट कमाने वाली संस्था है, जिसने बड़े स्तर मैन्युफैक्चरिंग के लिए भारी-भरकम इन्वेस्टमेंट किया है।

मदद करता है रेमडेसिवीर
कोविड-19 के इलाज के लिए अमेरिका में रेमडेसिवीर का इस्तेमाल शुरू हो गया है। बड़े स्तर पर ट्रायल के बाद नतीजों से पता चला कि रेमडेसिवीर के इस्तेमाल से मरीजों की रिकवरी तेजी से रही है। इन्हीं नतीजों के आधार पर अमेरिकी ड्रग रेग्युलेटर (US Drug Regulator) ने रेमडेसिवीर के इस्तेमाल के लिए मई में मंजूरी दी थी।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें