चंदौली : चीटी गति से बन रहा अंडरपास लोगों के लिए समस्या

0
18

चंदौली। रामनगर औद्योगिक क्षेत्र के मध्य से पश्चिम बंगाल तक गुजरने वाली स्वर्णिम चतुभुर्ज राष्ट्रीय राजमार्ग संख्य-२ पर बनने वाले अंडर पास निर्माण का कार्य पूर्ण न होने पर प्रतिदिन जाम लगा रहता है जिस कारण लोगों को यहां से गुजरना नाको तले चने चबाने के समान होता है। लोगों का कहना है कि इस मार्ग पर बनने वाला अंडर पास पिछले कई वर्षों से बनते हुए देखा जा रहा है परंतु इस कार्य के समाप्ति की डीओसी लिखा बोर्ड नहीं दिखाई पड़ता जिससे लोग यह समझ सके की इस कार्य पर कितना खर्च और कब तक यह कार्य पूर्ण होगा। जबकि इस मार्ग से गुजरने वाले गांव को आने-जानेे के लिए यह अंडरपास अति महत्वपूर्ण है। जिसे निर्माण काल के दौरान ही ध्यान में रखना चाहिए। लोगों का कहना है कि यही नहीं इस मार्ग पर अभी तक ट्रामा सेंटर भी नहीं बन सका है जो राजमार्ग से जुड़ा हुआ अतिमहत्वपूर्ण कार्य है।इसको लेकर चुनाव के दौरान मुद्दा भी बनता रहा है। दिल्ली से पश्चिम बंगाल तक जाने वाली 1465 किलोमीटर लंबी अर्थव्यवस्था को गति प्रदान करने के उद्देश्य से यह राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 02 स्वर्णिम चतुर्भुज एक प्रतिष्ठित परियोजना राजग सरकार के तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के कार्यकाल के दौरान शुरू की गई।बताया जाता है कि तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी अपने १९९९ से लेक २००४ तक के कार्यकाल में अर्थव्यवस्था को गति देने के उद्देश्य से राष्ट्रीय राजमार्गो का निर्माण कार्य शुरु कराया था। इसी क्रम में दिल्ली से पश्चिम बंगाल तक जाने वाली एनएच-२ रामनगर औद्योगिक क्षेत्र के मध्य से गुजारी गयी जिससे यहां आने वाले मालवाहनों को सुगम रास्ता प्राप्त हो सके। जिसे जनपद में विश्व सुंदरी मार्ग भी कहा जाता है। परन्तु उपरोक्त मार्ग पर पडऩे वाले गोधना, बौरी, नियामताबाद, सरने, गुवांस आदि प्रमुख गांव को जनपद के प्रमुख शहर मुगलसराय के बाजार व रेलवे स्टेशन का ध्यान नहीं रखा गया। फलस्वरुप निर्माण कार्य के दौरान ही अंडरपास नहीं बन सका जिससे कई दुर्घटनाएं भी घटित हो चुकी हैं। जिसको लेकर चुनाव के दौरान राजनीतिक मुद्दा भी बना अंतोगत्वा उपरोक्त स्थान पर अंडरपास बनाने का निर्णय लिया गया। लेकिन चीटीं गति से चल रहे कार्य के कारण यह कार्य कब समाप्त होगा इसका कोई अता-पता नहीं लग पा रहा है। जिस कारण राष्ट्रीय राज मार्ग पर प्रतिदिन जाम लगता है। कभी-कभी तो यह जाम पूरे दिन ही लगा रहता है जिससे लोगों को बिलारीडीह स्थिति तहसील व बाईपास से होकर बीएचयू जाना नामुमकिन सा लगने लगता है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें