महंगाई और भ्रष्टाचार ही सरकार की उपलब्धि- मधुबाला

0
279

पूर्व विधायक ने किया सपा कार्यकर्ताओं पर हुए लाठी चार्ज की निंदा

आज सं. औराई (भदोही)। विधान सभा क्षेत्र औराई की पूर्व सपा विधायक मधुबाला पासी ने कहा है कि देश और प्रदेश की बिगड़ रही व्यवस्था के साथ ही पेट्रोल डीजल के दामो में प्रतिदिन की जा रही मूल्य वृद्धि से महगाई तेजी से बढ़ रही है। वही इसके चलते आम जनमानस त्रस्त है। इसमे सुधार लाने के बजाय जनहित के मुद्दे पर सवाल उठाने वाले लोगों पर सरकार लाठियां बरसा रही है।
पूर्व विधायक ने बढ़ती महंगाई और हर दिन हो रहे पेट्रो पदार्थों के मूल्य वृद्धि के खिलाफ शांति पूर्वक प्रदेश की राजधानी लखनऊ में प्रदर्शन कर रहे सपा नेताओ पर की गई पुलिसिया बर्बरता की कड़ी निंदा की। कहा कि अच्छे दिन लाने के नाम पर झूठा सपना दिखाकर सत्ता में पहुची भाजपा की सरकार ने जनता को धोखा दिया है। कहा कि आज जब कच्चे तेल के दाम में काफी हद तक कमी आयी है तब सरकार पेट्रोल और डीजल के दाम मे बढ़ोत्तरी पर उतारू है। ऐसा पहली बार देखने को मिला है कि पेट्रोल से ज्यादा डीजल के दाम हो गए हैं। सरकार के इस तानासाही निर्णय के कारण महंगाई दर पर सीधा असर पड़ा है। क्योंकि पेट्रोलियम पदार्थों का संबंध सीधे तौर पर महंगाई के बढ़ने और घटने से जुड़ा होता है। कहा कि पूरा देश इस समय वैश्विक महामारी कोरोना के प्रभाव से जूझ रहा है। इसके लिए कारगर उपाय पर बिना कोई ठोस रणनीति के ही आनन फानन में सरकार ने लगभग तीन महीने तक पूरे देश को लाक डाउन रखा। जिसके चलते तमाम कल कारखाने और रोजगार से जुड़े संसाधन बंद हो गए। लाखो लोग इस महामारी काल में अपना सब कुछ छोड़ कर खाली हाथ तमाम तकलीफों को सहकर घर लौटने को विवश हुए। अब जब हर तरफ मंहगाई और बेरोजगरी की स्थिति बनी हुई है तो उससे आम जनता को राहत दिलाने के लिए उपाय न कर सरकार जनता पर अपने मनमानी निर्णय का बोझ थोप रही है। कहा कि 2017 और 2019 दोनों चुनाव में जनता भाजपा के झांसे का शिकार हुई लेकिन अब जनता जागरूक है। सरकार को जनता के सवालों का जबाब देना ही होगा। पूर्व विधायक श्रीमती पासी ने कहा कि भारतीय लोकतंत्र में यह पहली ऐसी सरकार है जिसने निरंकुशतता की सीमा को भी पार कर लिया है। महंगाई भ्रष्टाचार अपराध आदि जनविरोधी कार्य सत्ता की सह पर बड़े पैमाने पर हो रहे हैं। कहा कि सपा सरकार में जिले में चिकित्सा शिक्षा तथा ओद्योगिक विकास से लेकर फोरलेन ओवर ब्रिज ट्रामा सेंटर जैसे कई बड़े प्रोजेक्ट न सिर्फ मंजूर हुए बल्कि उसके लिए बजट भी जारी हुआ। वही जब भाजपा सत्ता में आयी तो नए प्रोजेक्ट मंजूर होने की बात तो दूर पूर्व के भी प्रोजेक्ट को आधा अधूरा छोड़ दिया गया। कहा कि समाजवादी जनता के साथ अन्याय किसी भी दशा में बर्दाश्त नहीं करेंगे। इसके लिए जरुरत पड़ने पर आंदोलन से पीछे नहीं हटेंगे।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें