वैज्ञानिकों ने गंभीर और हल्के कोविड-19 में खोजा अंतर

0
18

लंदन. शोधकर्ताओं (Researchers) ने कोविड-19 मरीजों (Covid-19 Patients) में संक्रमण की गंभीरता को प्रभावित करने वाली प्रोटीन का पता लगा लिया है. यह एक ऐसी जानकारी है, जो उनमें बीमारी (Disease) के बढ़ने की वजहों का पता लगाने में काम आ सकती है. इन वैज्ञानिकों में ब्रिटेन  की यूनिवर्सिटी ऑफ कैम्ब्रिज के वैज्ञानिक भी शामिल हैं. उन्होंने बताया कि अलग-अलग लोग नये कोरोना वायरस, सार्स-CoV-2 के प्रति अलग-अलग तरीके से प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं

वैज्ञानिकों ने कहा कि जबकि कुछ मरीजों में इसके कोई भी लक्षण दिखाई नहीं दे रहे तो कुछ मरीजों (Patients) में यह गंभीर बीमारी का रूप ले ले रहा है, बल्कि इससे उनकी मौत तक हो रही है.सेल सिस्टम्स नाम के जर्नल में प्रकाशित वर्तमान स्टडी में, शोधकर्ताओं ने ‘बायोमार्कर’ के लिए COVID-19 रोगियों में प्लाज्मा नामक रक्त घटक को मापा था, जो रोग की प्रगति और गंभीरता का अनुमान लगाने का एक विश्वसनीय तरीका विकसित करने में मदद कर सकता है.यूके में फ्रांसिस क्रिक इंस्टीट्यूट के मार्कस रालसेर के नेतृत्व में वैज्ञानिकों ने COVID-19 रोगी के रक्त के नमूनों के प्लाज्मा घटक में विभिन्न प्रोटीनों के स्तर को तेजी से निर्धारित करने के लिए अत्याधुनिक विश्लेषणात्मक तकनीकों का उपयोग किया. इस दृष्टिकोण का उपयोग करते हुए, उन्होंने COVID-19 के साथ रोगियों के रक्त प्लाज्मा में विभिन्न प्रोटीन बायोमार्कर (Biomarker) की पहचान की जो उनकी बीमारी की गंभीरता से जुड़े थे.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें