Sunday, July 5, 2020
होम स्थानीय खबर लखनऊ फर्जी तरीकेसे पढ़ा रही महिला शिक्षिका अनामिका गिरफ्तार

फर्जी तरीकेसे पढ़ा रही महिला शिक्षिका अनामिका गिरफ्तार

लखनऊ। एक साथ 25 स्कूलों में फर्जी तरीके से नौकरी करने के मामले में सुर्खियों में आई शिक्षिका अनामिका शुक्ला को गिरफ्तार कर लिया गया है। शनिवार को कासगंज पुलिस ने उनके गिरफ्तारी की पुष्टि की। अनामिका शुक्ला यहां के कस्तूरबा विद्यालय फरीदपुर में विज्ञान की शिक्षिका के रूप में पूर्णकालिक रूप से सेवाएं दे रहीं थीं। बेसिक शिक्षा विभाग के उच्च अधिकारियों के निर्देशों पर जिले में अनामिका शुक्ला नाम की शिक्षिका की तलाश की गई तो कस्तूरबा विद्यालय में यह शिक्षिका पाई गई। एक दिन पूर्व शुक्रवार को बीएसए (बेसिक शिक्षा अधिकारी) ने शिक्षिका के वेतन आहरण पर रोक लगाते हुए नोटिस जारी किया था। यह नोटिस व्हाट्सएप पर भेजा गया था। शुक्रवार की शाम शिक्षिका ने इस नोटिस को देखा तो शनिवार सुबह को वो अपना इस्तीफा देने बीएसए दफ्तर के बाहर पहुंची। अपने साथ आए एक युवक के माध्यम से उसने इस्तीफे की प्रति बीएसए को भेजी। बता दें कि इससे पहले उप्र सरकार ने शुक्रवार को कहा कि मामले की जांच की जा रही है और अभी इस बारे में कुछ स्पष्ट   रूप से नहीं कहा जा सकता है। स्कूली शिक्षा के महानिदेशक विजय किरण आनंद ने बताया कि इस तरह की खबरें मीडिया में आने के बाद बेसिक शिक्षा के अपर निदेशक को मामले की जांच के आदेश दिये गये है। अभी तक कुछ भी स्पष्ट नहीं है, जिस महिला अध्यापक का नाम सामने आया है और उनका कुछ अता-पता नहीं है। खबरों में ऐसा कहा जा रहा है कि महिला अध्यापक ने एक करोड़ रूपये का वेतन लिया है। यह सब सत्य नहीं है, और अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हो पायी है। उन्होंने कहा कि मामले की जांच की जा रही है और अगर आरोप सही पाये जाते है तो प्राथमिकी दर्ज कराई जाएगी। उन्होंने कहा कि वेतन का भुगतान बैंक खाते में भी नहीं हुआ है। मंडलीय अधिकारी जांच कर रहे हैं। अगर कोई अध्यापक गलत तरीके से एक से अधिक स्कूलों में पढ़ा रहा है तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। एक शिकायत के अनुसार मैनपुरी की रहने वाली एक महिला अध्यापक एक साथ 25 स्कूलों में काम कर रही थी और उसने पिछले 13 महीनों में एक करोड़ रूपये से अधिक वेतन लिया है। आरोप है कि महिला ने विज्ञान अध्यापक के रूप में कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय, अंबेडकरनगर, बागपत, अलीगढ़, सहारनपुर, प्रयागराज तथा अन्य स्थानों पर एक साथ काम किया है। कस्तूरबा गांधी विद्यालयों में संविदा के आधार पर शिक्षकों की नियुक्ति होती है और उन्हें 30 हजार रूपये प्रतिमाह वेतन मिलता है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

बोधगया: भारत सरकार के युवा मंत्रालय से मगध विवि को मिला प्रशस्ति पत्र

बोधगया (आससे)। राष्ट्रीय युवा महोत्सव, लखनऊ से लौटे गया कालेज गया राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेविका चंचल कुमारी को मगध विश्वविद्यालय छात्र...

गया: अतिथि शिक्षकों की शैक्षणिक समस्याओं पर हुई चर्चा

गया। बिहार राज्य उच्चतर माधयमिक अतिथि शिक्षक संघ की एक बैठक गांधी मैदान स्थित गांधी मंडप प्रांगण में संपन्न हुई। बैठक की...

गया: शहर में सुरसा के मुंह कर तरह बढ़ा कोरोना का संक्रमण, 36 घंटे में 42 मरीज

गया। शहर में कोरोना का संक्रमण सुरसा की तरह तेजी से बढ़ रहा है। बीते 36 घंटे में 42 नए केस सामने...

गया: लेमन ग्रास की फसल एक साल लगायें और पांच साल तक काटें उपज: डॉ : प्रेम

गया। डॉ. प्रेम कुमार मंत्री कृषि, पशुपालन एवं मत्स्य संसाधन विभाग, बिहार ने उद्यान निदेशालय, बिहार के दिशा-निर्देश के अनुसार मुख्यमंत्री बागवानी...

Recent Comments

Translate »